VIDEO: अपने पिता के शरीर का मांस खाने के लिए क्यों मजबूर थे पांडव, जानिए महाभारत की इस अद्भुत घटना को…

आपको सुनकर झटका लगेगा जब यह पता लगेगा कि पांडवो ने न केवल पत्नी द्रोपदी का किया था बटवारा बल्कि आपस में बांट कर अपने बाप को भी खा गए थे पांडव...

4668

पाण्डु पुत्रों का जन्म पाण्डु के वीर्य तथा सम्भोग से नहीं हुआ था 

आज हम आपको महाभारत से जुडी एक ऐसी अजीब घटना बताते है जिसमे पांचो पांडव अपने मृत पिता पाण्डु का मांस खाते हैl उन्होंने ऐसा क्यों किया यह जानने के लिए पहले हमे पांडवो के जन्म के बारे में जानना पड़ेगाl

जैसा की सभी जानते है कि पाण्डु के पांच पुत्र युधिष्ठर, भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव थेl  इनमे से युधिष्ठर, भीम और अर्जुन की माता कुंती तथा नकुल और सहदेव की माता माद्री थीl पाण्डु इन पाँचों पुत्रों के पिता तो थे पर इनका जन्म पाण्डु के वीर्य तथा यौन संबंध बनाने से नहीं हुआ था क्योंकि पाण्डु को श्राप था की जैसे ही वो सम्भोग करेगा उसकी मृत्यु हो जाएगी, इसलिए पाण्डु के आग्रह पर पत्नी कुंती और माद्री ने सभी पाचों पुत्र भगवान का आहवान करके प्राप्त किये थेl

महाभारत में भी इस बात का उल्लेख है कि जब पाण्डु की मृत्यु हुई तो उसके मृत शरीर का मांस पाँचों भाइयों ने मिल बाट कर खाया थाl उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योकिं स्वयं पाण्डु की ऐसी इच्छा थीl

आगे पढ़ें आखिर पाण्डु अपने पाँचो पुत्रों को अपने मृत शरीर का मांस इसलिए खिलाना चाहते थे क्योंकि…