अगर आप भी अनजाने में लेते है राधा से पहले श्रीकृष्ण का नाम तो ‘श्रीमद् देवीभागवत’ के ये वचन आपके लिए हैं…

क्या आप जानते हैं राधा का नाम कृष्णा जी से पहले क्यों लिया जाता हैं

5175

श्री कृष्ण से पहले लिया जाता है राधा का नाम 

जैसा सब जानते है प्रेम के सबसे बड़े प्रतीक माने जाने वाले भगवान कृष्‍ण से पहले राधा का नाम ल‌िया जाता हैl इसके पीछे एक बड़ा रहस्य छुपा हुआ ज‌िसका ज‌िक्र स्वयं भगवान श्री कृष्‍ण ने क‌िया थाl इस बात का तर्क देते हुए  श्री कृष्‍ण कहते हैं क‌ि जो व्यक्ति राधा का नाम नहीं लेता है सिर्फ कृष्ण-कृष्ण रटता रहता है वह उसी प्रकार अपना समय नष्ट करता है जैसे कोई रेत पर बैठकर मछली पकड़ने का प्रयास करता हैl

इस बात का उल्लेख श्रीमद् देवीभाग्वत् नामक ग्रंथ में भी मिलता है कि जो भक्त राधा का नाम लेता है भगवान श्री कृष्ण सिर्फ उसी की पुकार सुनते हैं इसलिए कृष्ण को पुकारना है तो राधा को पहले बुलाओl ये माना जाता है कि जहां श्री भगवती राधा होंगी वहां श्रीकृष्ण खुद ही चले आएंगेl पुराणों के अनुसार भगवान कृष्ण स्वयं कहते हैं कि राधा उनकी आत्मा हैl वह राधा में और राधा उनमें बसती हैl कृष्ण को पसंद है कि लोग भले ही उनका नाम नहीं लें लेकिन राधा का नाम जपते रहेंl क्योंकि यही वो नाम है जिसे सुनकर भगवान श्री कृष्ण अति प्रसन्न हो जाते हैंl

इसका उल्लेख श्री कृष्ण जी ने नारद से किया हैl इस संदर्भ में ऋषियों द्वारा एक कथा का उल्लेख है जिसमे व्यास मुनि के पुत्र शुकदेव जी तोता बनकर राधा जी के महल में रहने लगे और फिर उन्हें इस राज़ के बारे में कुछ ऐसा पता लगता है जिसे शायद किसी ने भी पहले नहीं सुना होगाl

आगे पढ़ें अनजाने में भी मत लेना श्री कृष्ण का नाम राधा से पहले नहीं तो… 

1 of 2

Loading...
Loading...