सदी के इस कुख्यात डॉन को दाउद भी ठोकता था सलाम, नाम सुनकर ही नेताओं की हो जाती थी…

यूपी के इस डॉन ने ले ली थी सीएम की सुपारी और कर दी थी मंत्री की हत्या...

65438

25 वर्ष के इस खूंखार डॉन की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं जिसके आगे दाउद भी बच्चा था 

90 के दशक में पूर्वान्चल यानी उत्तर प्रदेश के अखबारों के पन्नों पर दहशत का साया साफ दिखाई पड़ता थाl हत्या, अपहरण, डकैती और अवैध उगाही में एक खास नाम की वजह से न केवल आम आदमी परेशान था, इस नाम ने प्रशासन की नाक में दम कर रखा थाl

नाम तो सबने सुना ही था, लेकिन उसकी कोई तस्वीर पुलिस के पास नहीं थीl दहशत का दूसरा नाम था कुख्यात माफिया–श्रीप्रकाश शुक्ला…

श्रीप्रकाश शुक्ला गोरखपुर के ममखोर गांव में पैदा हुआ थाl कुश्ती का शौकीन शुक्ला अपने गांव का जाना-माना पहलवान थाl उसने वर्ष 1993 में पहली बार, राकेश तिवारी नामक एक व्यक्ति की हत्या कर दी थी, तिवारी का जुर्म बस इतना था कि उसने शुक्ला की बहन से छेड़छाड़ की थीl जिसके चलते प्रकाश शुक्ला ने उसे मौत के घाट उतार दिया थाl

अपने जीवन का पहला अपराध कर शुक्ला भारत छोड़ बैंकॉक भाग गया और जब वह लौटा तो बिहार के सूरजभान सिंह के गैंग में शामिल हो गयाl फिर यही से शुरू हुआ श्रीप्रकाश शुक्ला का आपराधिक सफरl

बैंकॉक से लौटने के बाद उसके मुंह खून लग चुका था और उसे ज्यादा की दरकार थीl बिहार में मोकामा के सूरजभान में उसे गॉडफादर मिल गयाl धीरे-धीरे उसने अपना एंपायर बिल्ड किया और यूपी, बिहार, दिल्ली, पश्चिम बंगाल और नेपाल में सारे गैरकानूनी धंधे करने लगाl उसने फिरौती के लिए किडनैपिंग, ड्रग्स और लॉटरी की तिकड़म से लेकर सुपारी किलिंग तक में हाथ डाल दियाl एक अंदाजे के मुताबिक, अपने हाथों से उसने करीब 20 लोगों की जानें लींl

आगे पढ़ें एक डॉन जो जाते-जाते उत्तर प्रदेश को तोहफे में दे गया एक शक्तिशाली…

1 of 5

Loading...
Loading...