वीडियो: जानें दलित मुद्दे के नाम पर होती ‘राजनीती’ के पीछे का बड़ा सच!

20855

हमारे देश में हर बार चुनाव से पहले नेताओं और पार्टियों द्वारा कोई न कोई मुद्दा ऐसा उठा लिया जाता है जिसके बल पर वे चुनाव की रेस में कदम जमा लेते हैं. अब चूँकि उत्तर प्रदेश में भी इलेक्शन होने वाले हैं, तो इस बार पिछले कुछ वक़्त से चला आ रहा गरमा-गरम ‘दलित-विरोधी’ मुद्दा उठा लिया गया है l

बात शुरू हुई गुजरात से जब कुछ गौ-रक्षकों ने कुछ दलितों पर हाथापाई की l इसी समय पर केरल में भी एक हादसा हुआ  था जहाँ एक दलित महिला के रेप की खबर सामने आयी थी, वहीँ दूसरी ओर बिहार में ज़बरदस्ती दलित युवकों को पेशाब पिलाये जाने की खबरें भी सामने आयीं l पर न तो राहुल गाँधी, न ही केजरीवाल ने वहां जाने का कष्ट उठाया, क्योंकि इनके लिए ‘गुजरात’ जाना ही ज़्यादा ज़रूरी था, वहाँ मोदी जी का घर जो ठहरा !

 दलितों के साथ होने का दावा करने वाले ऑपोज़िशन के सभी नेताओं को असल में ‘दलित’ लोग वोटबैंक दिखाई देते हैं l और यह भी कम पड़े तो वो ‘दलित’ लोगों को हथियार बना देश की सरकार, जो इस वक़्त पीएम मोदी के हाथ में है, पर वार भी कर देते हैं !

इस ‘एक तीर से दो निशाने’ मारने की राजनीति को, इस विडियो में पत्रकार विक्रम बजाज ने बड़े अच्छे से समझाया है l

देखें वीडियो-

अब आप खुद ज़रा सोचिये’!