अंकुरित चनो में छुपे है सेहत के ये राज, अस्थमा, मधुमेह हो या पौरुष कमजोरी सबके लिए अंकुरित चना…

130495

9. पुरूषों की कमजोरी दूर करना : अधिक काम और तनाव की वजह से पुरूषों में कमजोरी होने लगती है। एैसे में अंकुरित चना किसी वरदान से कम नहीं है। पुरूषों को अंकुरित चनों को चबा-चबाकर खाने से कई फायदे मिलते हैं। इससे पुरूषों की कमजोरी दूर होती है। भीगे हुए चनों के पानी के साथ शहद मिलाकर पीने से पौरूषत्व बढ़ता है। और नपुंसकता दूर होती है।

10. पीलिया के रोग में : पीलिया की बीमारी में चने की 100 ग्राम दाल में दो गिलास पानी डालकर अच्छे से चनों को कुछ घंटों के लिए भिगो लें और दाल से पानी को अलग कर लें अब उस दाल में 100 ग्राम गुड़ मिलाकर 4 से 5 दिन तक रोगी को देते रहें। पीलिया से लाभ जरूरी मिलेगा। पीलिया रोग में रोगी को चने की दाल का सेवन करना चाहिए।

11. कुष्ठ रोग में चना : कुष्ठ रोग से ग्रसित इंसान यदि तीन साल तक अंकुरित चने खाएं। तो वह पूरी तरह से ठीक हो सकता है।

12. गर्भवती महिला को यदि मितली या उल्टी की समस्या बार-बार होती हो। तो उसे चने का सत्तू पिलाना चाहिए। 

13. अस्थमा रोग में : अस्थमा से पीडि़त इंसान को चने के आटे का हलवा खाना चाहिए। इस उपाय से अस्थमा रोग ठीक होता है।

Source http://4.bp.blogspot.com/-JGyHKWkCwdI/VjiIvIaZpHI/AAAAAAAAAQ4/08NDRAKQjtw/s1600/%25E0%25A4%2586%25E0%25A4%25B9%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25B0%2B%25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%2587%2B%25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%259F%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%25AE%25E0%25A4%25BF%25E0%25A4%25A8%25E0%25A4%25BE%2B%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25A2%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25AF%25E0%25A5%2587%25E0%25A4%2582.png
Source

कृपया अगले पेज पर क्लिक करें