तेज़ रफ़्तार से भागती योगी सरकार पर चला हाईकोर्ट का लगाम, यूपी सरकार को झटका देते हुए कोर्ट ने कहा…

इन सभी शिकायतों के बाद मुख्यमंत्री ने इस मामले पर कड़ा कदम उठाते ही सभी छह सदस्यों को बोर्ड से हटा दिया था।

6253

यूपी सरकार सत्ता में आने के बाद से ही जिस तेज़ी से काम कर रही थी उसे देखकर तो यही लग रहा था कि अब यूपी के अच्छे दिन जल्द ही आ जायेंगे, लेकिन यूपी सरकार की इस तेज़ी से दौड़ती सरकार पर उस वक़्त लगाम लग गयी जब कोर्ट ने यूपी सरकार के एक आदेश पर रोक लगा दी| दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार को हाई कोर्ट से उस वक़्त बड़ा झटका लगा जब कोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के सदस्यों को हटाने के योगी सरकार के फैसले को रद्द करने का फैसला लिया।

source

योगी सरकार के फैसले के खिलाफ जाते हुए कोर्ट ने इन सभी सदस्यो को फिर से बहाल कर दिया है। बता दें कि इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने शिया वक्फ बोर्ड के सदस्यों की अपील पर सुनवाई करते हुए यह अहम फैसला दिया है। योगी सरकार के इस फैसले के खिलाफ इन सभी सदस्यों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। आपको बता दें कि हाल ही में योगी सरकार ने शिया-सुन्नी वक्फ बोर्ड में हो रही हेराफेरी के खिलाफ सरकार ने बोर्ड के सभी सदस्यों को हटाने का फैसला किया था|

source

ये मसला उस वक़्त शुरू हुआ था जब खुद योगी सरकार में अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा ने बोर्ड के अंदर ही हो रही धांधली का मुद्दा उठाया था। जिसके बाद वक्फ मंत्री ने भी बोर्ड में हो रही हेराफेरी को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा था, इन सभी शिकायतों के बाद मुख्यमंत्री ने इस मामले पर कड़ा कदम उठाते ही सभी छह सदस्यों को बोर्ड से हटा दिया था।

source

यूपी सरकार में वक्फ बोर्ड मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने बोर्ड के भीतर धांधली का आरोप लगाया था। यही नहीं उन्होंने वक्फ बोर्ड के चेयरमैन को भी भ्रष्टाचारी बताते हुए कहा था कि, “चेयरमैन के नाम पर अवैध रूप से करोड़ों की संपत्ति है और उन्होंने कई जमीन पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है।” इन मुद्दों को देखते हुए हमने मुख्यमंत्री को शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड के चेयरमैन को बर्खास्त करने के लिए पत्र लिखा है। इसके साथ ही हमने मुख्यमंत्री से इस मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है, हमारे पास इनके खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं। आपको बता दें कि इसके बाद ही मुख्यमंत्री ने राज्यसभा सांसद अख्तर हसन रिज़वी, मुरादाबाद के सैय्यद वली हैदर, मुजफ्फरनगर की अफशां जैदी, बरेली के सय्यद अजीम हुसैन, नजमुल हसन रिज़वी, आलिमा जैदी को वक्फ बोर्ड से हटाया था।

Loading...
Loading...