योगी सरकार के इस अहम फैसले से अब नही बचेगें यूपी के अपराधी

यूपी में योगी के इस फैसले से सुनी जायेगी हर पीड़ित की आवाज

2263

उत्तर प्रदेश में क़ानून की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए योगी सरकार का यह फैसला बहुत अहम माना जा रहा है |पिछले कुछ दिनों से प्रदेश में क़ानून की स्थिति को लेकर मीडिया में भी सरकार की काफी आलोचना हो रही है | इस तरह की घटनाओं पर रोक लगाने के लिए सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है |पिछले दिनों सहारानपुर में हुई हिंसात्मक घटना हो  ,मथुरा में हुई लूट की घटना हो या गौतमबुद्धनगर के जेवर में हुए गैंगरेप और लूट की घटना ने भी क़ानून व्यवस्था की खस्ता हालत को बयां कर दिया |

Source

इन सभी घटनाओं को देखते हुए और सभी वर्गों तक क़ानून की पहुँच हो सके इस लिहाज से भी यह फैसला बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है |उत्तर-प्रदेश में लोगों के द्वारा थानों में एफ.आई.आर. दर्ज कराने को लेकर कई प्रकार की शिकायतें सामने आती हैं |इन सभी शिकायतों को दूर करने के लिए योगी सरकार ने अब एक बड़ा फैसला लिया है | अब उत्तर-प्रदेश में सरकार के फैसले के अनुसार अब जिलों के कप्तान के कार्यालयों में भी एफ.आई.आर. दर्ज करवाने के लिए काउंटर खोला जायेगा |

Source

इस फैसले के सम्बन्ध में प्रदेश के गृह विभाग ने डी.जी.पी.सहित सभी जोनल ए.डी.जी.ए. रेंज के आई.जी.,डी.आई.जी. और एस.एस.पी.,एस.पी. को निर्देश जारी किये हैं |इस निर्देश में कहा गया है कि हर जिले के एस.एस.पी. और एस.पी. कार्यालय में एफ.आई.आर. दर्ज करने का काउंटर खोला जाये |

Source

योगी के इस फैसले के अनुसार जिला ,रेंज और जोनल स्तर पर हर रोज कितनी एफ.आई.आर. दर्ज हुई इनका आकलन किया जाए| इसी के साथ इनकी सूचना डी.जी.पी. मुख्यालय और कंट्रोल रूम को भेजी जाए |इन सभी एफ.आई.आर. की  डी.जी.पी. कार्यालय पर समीक्षा की जायेगी | सरकार का मानना है कि इस फैसले से सबसे ज्यादा उन लोगों को राहत मिलेगी जिन पीड़ितों को एफ.आई.आर. दर्ज कराने के लिए थानों के कई चक्कर लगाने पड़ते थे |