पाक से भारत के हारने की वजह और कुंबले से कोहली की बदसलूकी की वजह को खोलकर रख दिया इस फैन ने अब टीम इंडिया..

कोच के नाते ही नहीं बल्कि एक सीनियर प्लेयर होने के नाते ही आप कुंबले का सम्मान करते।

16191

चैंपियंस ट्राफी में पाकिस्तान से हारने के बाद भारतीय फैंस का गुस्सा थमने का नाम ही नहीं ले रहा। हार के बाद निराशा तो सभी में है, लेकिन एक फैन ऐसा भी है जिसने विराट कोहली को खुला खत लिखा है। इस खत के जरिए इस मासूम से फैन ने विराट को उनकी गलती का एहसास करने की कोशिश की है।

source

प्रिय कोहली

खत में इस फैन ने लिखा है कि चैंपियंस ट्रॉफी हारने के बाद उसका गम तो हम सभी को है, हम तो फैन है जनाब हमसे ज्यादा दर्द तो आपको होगा, लेकिन टीम फाइनल में ऐसा प्रर्दशन करेगी ये किसी ने सपने में भी नहीं सोचा होगा। पूरी टीम को आप से उम्मीद थी लेकिन आपने दिल तोड़ दिया। दुख इस बात का नहीं है कि हम हारे बल्कि दुःख इस बात का है कि इस मैच में वो स्पार्क नहीं दिखा जो पाकिस्तान के खिलाफ खेले जाने वाले मैच में दिखता था।

source

आपको पता है इंडिया पाकिस्तान का मैच वो भी देखता है जिसे मैच से नफरत होती है। सर आपका गुस्सा, आक्रमकता सब कहां गायब हो गई। मुझे 2016 के टी-20 विश्वकप के बाद आपके  वो आंसू याद हैं, लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में वो जज्बा, वो लड़ाई कहां थी? टॉस जितने के बाद गेंदबाजी करने के फैसले से सबसे बड़ा झटका लगा| फाइनल का दबाव तो पूरी टीम पर होता है।

source

ऐसे में पहले बल्लेबाजी कर बड़ा स्कोर करने की जगह आपने गेंदबाजी चुनी। आपके फैसले का असर तो तुरंत दिखा जब पाकिस्तानी बल्लेबाजों ने आते मान हम पर हमला बोल दिया। बल्लेबाजी में भी हम फ्लोप रहे। बांग्लादेश के खिलाफ जब धोनी के कहने पर केदार जाधव को बॉल डलवाई थी, तो विकेट मिले थे। पर इस बार क्या हुआ था जाधव को गेंद भी दी तो 40वें ओवर के बाद? जिसका कुछ फायदा नहीं हो सका। देखिए विराट कोहली, मैं कोई क्रिकेटर नहीं हूं और मुझे पता है कि क्रिकेट में हार-जीत होती रहती है।

source

लेकिन जब आपकी टीम आपके भरोसे पर खरी ना उतरे तो दर्द होता है। मुझे भी हुआ, मैच और टूर्नामेंट के दौरान बहुत गलती ऐसी हुई जिसने तकलीफ पहुंचाई। हार छोड़िये, आपने तो देश के सबसे महान स्पिनर अनिल कुंबले पर ही सवाल उठा दिए। अनिल कुंबले की गलती ही क्या थी, कि वो सभी प्लेयर्स को ज्यादा प्रैक्टिस करने को कहते थे। वो उन्हें किसी और कोच की तरह घूमने या ज्यादा शॉपिंग करने से टोकते थे। बस इतनी सी बात को लेकर आपने कुंबले जैसे खिलाड़ी को विलेन बना दिया।सर, आप भूल गए हैं कि पिछले 1 साल में आप जितने भी मैच जीते हैं, उसमें कुंबले सर का भी उतना ही योगदान था जितना आपका।

कोच के नाते ही नहीं बल्कि एक सीनियर प्लेयर होने के नाते ही आप कुंबले का सम्मान करते। इस्तीफा देने के बाद कुंबले ने जो लिखा उससे साफ है कि उन्हें टीम में सम्मान नहीं मिला था। फिर भी मुझे आप पर और टीम पर पूरा भरोसा है।

सप्रेम

एक छोटा सा फैन