अपने माँ-बाप को खो चुके इन दोनों ही बच्चों ने पीएम मोदी से उम्मीद की आस में ख़त लिखा था, लेकिन बदले में जो उत्तर मिला…

बच्चों ने कोटा बाल कल्याण विकास कमेटी ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से नोट बदलवाने की गुजारिश भी की थी लेकिन यहाँ भी कुछ नहीं हो सका

14922

देश में नोटबंदी के बाद से ही कई बार ऐसा देखा गया है कि कहीं-कहीं लोगों को नोटबंदी की वजह से मुसीबतों का सामना करना पड़ा हो| ऐसे में नोटबंदी और उससे जुड़ी समस्या से मिलताजुलता एक किस्सा हाल ही में सूरत में देखने को मिला| दरअसल मामले की जड़ सूरत से जुड़ी हुई हैं जहाँ दो मासूम अनाथ बच्चे उस वक़्त इस समस्या से घिर गए जब उनके माँ-बाप की मौत के बाद उन्हें पुराने नोट हाथ लगे|

source

अपने माँ-बाप को खो चुके सूरत के 17 वर्षीय सूरज बंजारा और उसकी नौ साल की बहन सलोनी एक अनाथ आश्रम में रहते हैं| उनके पिता की कुछ वक्त पहले मौत हो गयी थी जिसके बाद वह अपनी मां के साथ रह रहे थे लेकिन कुछ महीनों पहले उनकी मां की हत्या कर दी गई लेकिन मरने से पहले उनकी मां उनके लिए 96,500 रुपए छोड़ गई थीं।

अगली स्लाइड में जानिए जब इन अनाथ बच्चों ने पीएम मोदी को ख़त लिख कर बताई अपनी समस्या तो…

1 of 2

Loading...
Loading...