एक बार फिर सामने आया JNU छात्रों का घटिया चेहरा, सुकमा और कुपवाड़ा में शहीद जवानों के लिए शोकसभा रखने वाले प्रोफेसर के साथ किया…

देश के शहीदों से जुड़ा ये कोई पहला मामला नहीं है जहाँ JNU छात्रों ने अपनी औकात दिखाई हो| इससे पहले भी शहीदों की खबर पर JNU में जश्न मनाया गया था

5976

भारत विरोधी विश्वविद्यालय का दर्जा पा चुके JNU से एक बड़ी खबर आ रही है| दरअसल जेएनयू एक बार फिर विवादों में है| इस बार जेएनयू में शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए हुई सभा विवादों की वजह बनी है| हालाँकि ये कोई पहला मामला नहीं है जब JNU इस तरह के विवाद में घिरा हो| इससे पहले भी जेएनयू पिछले साल फरवरी में विवाद में आया था तब भारतीय संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू के समर्थन में कार्यक्रम हुआ था और जिसमें देश विरोधी नारे भी लगाये गए थे|

जेएनयू मुद्दा अब सिर्फ कैंपस में ही नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर भी ये लड़ाई खुलकर हो रही है| इस मामले में कन्हैया कुमार और साथियों पर देशद्रोह का मुकदमा तक दर्ज हुआ था| इसी के बाद से जेएनयू कैंपस में लगातार विरोध-प्रदर्शन और हंगामे का माहौल बना हुआ है|

अगली स्लाइड में जानिए सुकमा और कुपवाड़ा के शहीदों से जुड़ी JNU से आई ये बड़ी खबर…