लड़ कर लेंगे आजादी के नारे लगाने वाले सेक्युलर उस वक्त कहां मर गए थे जब कश्मीर में हिन्दुओं के साथ ये दर्दनाक…

1990 में कश्मीर की घाटी में खुले आम भारत विरोधी नारे लगनें लग रहे थे और वहां की मस्जिदों में अजान कि जगह हिन्दुओं के लिए धमकियां और हिन्दुओं को खदेड़कर मार देनें के जहरीले बोल बोले जा रहे थे...

7661

कश्मीर में 19 जनवरी 1990 को हुए बर्बर जनसंहार के बाद कई वर्षों का लम्बा अंतराल बीत गया है जिसमें दिल्ली और श्रीनगर की असंवेदनशीलता के सिवा कश्मीरी पंडितों को कुछ नहीं मिला है| कश्मीर के सर्वाधिक नए जन सांख्यिकीय आंकड़ों पर अगर नज़र डाले तो स्वतंत्रता के समय कश्मीर में 15% कश्मीरी पंडितों की आबादी थी जो की आज 1 % से नीचें होकर 0 % की ओर बढ़ गई है|

अगले पेज पर देखें वो दिल देहला देनें वाला वीडियो जिसमें बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडितों के शवों का समुचित अंतिम संस्कार भी नहीं होनें दिया गया था…

1 of 3

Loading...
Loading...