इस संगठन ने दी है धमकी एक महीने में मुस्लिम नहीं किए गए बाहर तो…

ऐसा नहीं होने पर कीमती जानें जा सकती हैं।

12493

म्यांमार से दर-बदर हुए रोहिंग्या मुसलमानों ने पिछले कुछ दशकों में विश्व के कई हिस्सों में शरण ली है| उनमें जम्मू-कश्मीर भी है| सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि इनकी मौजूदगी से जम्मू-कश्मीर की सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है| समय-समय पर इन रोहिंग्‍या और बांग्‍लादेशी मुसलमानों को सुरक्षा के लिहाज से देश से निकलने की बात भी आती रहती है|

Source

ऐसे में रोहिंग्‍या और बांग्‍लादेशी मुसलमानों को लेकर इन दिनों जम्मू कश्मीर में एक नया बखेड़ा खड़ा हो गया है जिसके चलते जम्‍मू चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री(जेसीसीआर्इ) के अध्‍यक्ष राकेश गुप्‍ता ने शनिवार को कहा है कि ऐसे में अगर अगर रोहिंग्‍या और बांग्‍लादेशी मुसलमानों को एक महीने के अंदर वापिस उनके मुल्क नहीं भेजा गया तो उनकी चुन-चुन कर पहचान..

अगली स्लाइड में जानिए क्या है पूरा मामला…