आज़म खान भी आये राम मंदिर के समर्थन में, लखनऊ में लगवाए पोस्टर!

आजम खान ने लखनऊ में तकरीबन 10 जगहों पर बैनर लगवाए हैं जिसमें उन्होंने मंदिर निर्माण की बात कही है,

14986

यूपी में भाजपा सरकार के आने के बाद से ही एक बार फिर राम मंदिर निर्माण की चर्चा तेज़ हो गई है। इस मामले में जो बड़ी बातें सामने आई हैं, वो यह कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मुद्दे पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि राम मंदिर का मसला दोनों पक्ष कोर्ट से बाहर ही  सुलझा लें तो बेहतर है। सुप्रीम कोर्ट के इस बयान पर तमाम धर्मगुरुओं और राजनेताओं ने अपने बयान दिए।

Source

लेकिन राम मंदिर मामले में बड़ा मोड़ लखनऊ में उस वक़्त आ गया जब यहां राम मंदिर के समर्थन में पोस्टर लगवाए गए| पोस्टर में अयोध्या में राम मंदिर बनाने की बात कही गई है। ऐसे में जिस तरह से सुप्रीम कोर्ट ने अपना सुझाव दिया है कि दोनों पक्षों के बीच इस मामले में समझौते की बात कही है, इन बैनरों को काफी अहम माना जा रहा है। 

दरअसल राम मंदिर निर्माण मुस्लिम कार सेवक मंच के अध्यक्ष आजम खान ने लखनऊ में तकरीबन 10 जगहों पर बैनर लगवाए हैं जिसमें उन्होंने मंदिर निर्माण की बात कही है| आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर मंदिर बनवाने की बात कही है। आजम खान ने कुछ लोगों का एक संगठन बनाया है जो सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद राम मंदिर निर्माण की वकालत कर रहे हैं|

Source

आजम खान दो गनर की सुरक्षा में चलते हैं और वह जय श्री राम कहने से भी हिचकते नहीं है| उनका मानना है कि मुस्लमान भी राम भगवान् की उतनी ही इज्जत करते हैं जितनी की हिन्दू। काफी बड़ी संख्या में युवा उनके साथ हैं, इनका संगठन धार्मिक नेताओं मौलवियों की आलोचना करने से भी पीछे नहीं हटता है लेकिन जिस तरह से उन्होंने लखनऊ में मंदिर के समर्थन में पोस्टर लगाए हैं उसके बाद उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही है।

Source

आजम खान का कहना है कि उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही है क्योंकि उन्होंने काफी साहसिक कदम उठाया है। उन्होंने कहा कि मुझे ईमेल और फोन पर धमकी मिल रही है, मैं उनकी पहचान नहीं कर सकता हूं, ये लोग मुझे धमकी दे रहे हैं कि मैं इस मुद्दे को छोड़ दूं और मस्जिद बनाने की बात कहूं और इसके निर्माण के लिए कोशिश करूं। इसके लिए मुझे पैसे भी देने की बात कही गई है। इस मामले में एफआईआर दर्ज कर दी गई है, लेकिन अभी भी उन्हें यूपी पुलिस की ओर से सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई है|